हिंदी का प्रयोग सभी सरकारी गैर सरकारी संस्थाओं में अनिवार्य हो : पीयूष पण्डित

0
64

नई दिल्ली : स्वर्ण भारत परिवार के तत्वाधान में हिंदी दिवस पर गोष्ठी का आयोजन गुरुवार को संगठन के प्रधान कार्यालय नई दिल्ली पर गुरुवार को किया गया। गोष्ठी में हिंदी भाषा को और ज्यादा विकसित करने पर विस्तृत चर्चा की गई।

स्वर्ण भारत अध्यक्ष पीयूष पण्डित ने बताया कि इसका मुख्य उद्देश्य वर्ष में एक दिन इस बात से लोगों को रूबरू कराना है कि जब तक वे हिन्दी का उपयोग पूरी तरह से नहीं करेंगे। तब तक हिन्दी भाषा का विकास नहीं हो सकता है। इस एक दिन सभी सरकारी कार्यालयों में अंग्रेज़ी के स्थान पर हिन्दी का उपयोग करने की सलाह दी जाती है। इसके अलावा जो वर्ष भर हिन्दी में अच्छे विकास कार्य करता है और अपने कार्य में हिन्दी का अच्छी तरह से उपयोग करता है, उसे पुरस्कार द्वारा सम्मानित किया जाता है। सगठन सचिव दिनेश त्रिपाठी ने जानकारी दी कि भारत में हिंदी दिवस 14 सितम्बर को इसलिए मनाया जाता है। क्योंकि 1949 में इसी दिन सविंधान सभा ने हिंदी को भारतवर्ष कि आधिकारिक भाषा का दर्ज़ा दिया। हिंदी को राजभाषा बनाया गया। 26 जनवरी, 1950 को लागू सविंधान में इस पर मुहर लगाई गई।

दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष

peeyush pandit support hindi languges
ने बताया कि कई लोग अपने सामान्य बोलचाल में भी अंग्रेज़ी भाषा के शब्दों का या अंग्रेज़ी का उपयोग करते हैं। जिससे धीरे धीरे हिन्दी के अस्तित्व को खतरा पहुँच रहा है। यहां तक कि वाराणसी में स्थित दुनिया में सबसे बड़ी हिन्दी संस्था आज बहुत ही खस्ता हाल में है। इस कारण इस दिन उन सभी से निवेदन किया जाता है कि वे अपने बोलचाल की भाषा में भी हिन्दी का ही उपयोग करें। इसके अलावा लोगों को अपने विचार आदि को हिन्दी में लिखने भी कहा जाता है। चूंकि हिन्दी भाषा में लिखने हेतु बहुत कम उपकरण के बारे में ही लोगों को पता है, इस कारण इस दिन हिन्दी भाषा में लिखने, जांच करने और शब्दकोश के बारे में जानकारी दी जाती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here